Yogi Adityanath Biography in Hindi | योगी आदित्यनाथ की जीवनी

Yogi Adityanath Biography in Hindi

Yogi Adityanath Biography in Hindi – बॉडी से गोरखपुर और गोरखपुर से लखनउ का सफर तय करने वाला यह सन्यासी अब सियासी दुनिया का सहनसा बनता जा रहा है कभी सिर्फ गोरखपुर की सीमाओं मे सीमित रहने वाले योगी आदित्यनाथ आज भाजपा (BJP) जैसी बड़ी पार्टी स्टार प्रचारक के रूप में पूरे देश में अपना जलवा बिखेर रहे हैं।

 

25E0 25A4 25AF 25E0 25A5 258B 25E0 25A4 2597 25E0 25A5 2580 2B 25E0 25A4 2586 25E0 25A4 25A6 25E0 25A4 25BF 25E0 25A4 25A4 25E0 25A5 258D 25E0 25A4 25AF 25E0 25A4 25A8 25E0 25A4 25BE 25E0 25A4 25A5Yogi Adityanath Biography in Hindi

 

सन 1996 में योगी आदित्यनाथ के राजनीतिक जीवन का अध्याय शुरू हुआ उनके भीतर के आक्रामक शैली को पहचानते हुए महेंद्र वैद्यनाथ ने 1996 में उन्हें चुनाव अभियान का प्रबंधन प्रभारी नियुक्त किया  क्योंकि महेंद्र खुद संसद थे।

Biography / Wiki ____

Full Name: अजय सिंह बिष्ट (योगी आदित्यनाथ)
Nickname: Yogi
Date of Birth: 5 June 1972
Age: 48 Years (as in 2020)
Caste: Rajput
Political Party: Bharatiya Janata Party (BJP)
Profession: Indian Politician, Religious Missionary
Height: 163 cm (approx.)
School: A primary school in Pauri, Uttarakhand
College: Garhwal University, Srinagar, Uttarakhand
Educational Qualifications: Bachelor’s Degree in Mathematics (B.Sc.)
Family:
Father: Anand Singh Bisht (Forest Ranger; died on 20 April 2020)
Mother: Savitri Devi (Homemaker)
Hometown: Gorakhpur, Uttar Pradesh, India
Birthplace: Panchur, Distt. Pauri Garhwal, Uttarakhand, India
Nationality: Indian

Early Life____

Yogi Adityanath Biography in Hindi – पहले हिन्दू महासभा फिर बीजेपी की टिकट से लड़कर गोरखपुर के सांसद बने थे योगी आदिनाथ को चुनाव का प्रबंधन प्रभारी बनाकर कुछ समय बाद महेंद्र वैद्यनाथ ने राजनीति जीवन से चार लेने का निर्णय लिया और अपने राजनीतिक विरासत योगी आदिनाथ को सौंप कर उनको अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया।

सन 1998 में देश मैं लोकसभा चुनाव हुआ जिसमें योगी पहली बार गोरखपुर लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की टिकट से चुनाव लड़े और जितने भी इस बार भी लोकसभा चुनाव में वह सबसे कम उम्र के सांसद थे उस समय उनकी उम्र केवल 26 साल थी।

साल 1999 के लोकसभा चुनाव हुए इस चुनाव में भी योगी जीते और दोबारा सांसद चुने गए योगी आदिनाथ की कर्मभूमि भले ही उत्तर प्रदेश हो उनकी जन्मभूमि देवभूमि उत्तराखंड 5 जून 1972 को योगी का जन्म उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले में छोटे से गांव पचोर मैं एक राजपूत परिवार में हुआ था।

जन्म के बाद धार्मिक रीति रिवाज का पालन करते हुए पिता आनंद विष्णु माता सावित्री देवी ने उनका नाम अजय सिंह बिष्ट रखा बचपन से ही अजय सिंह बिष्ट बेहस तेज स्वभाव के थे।

Yogi Adityanath Biography in Hindi – हालांकि समाज और धर्म के प्रति सेवा की अजय सिंह के मन में बचपन से ही थी सात भाई बहनों में अजय जी अपने माता-पिता की पांच ओलाद है योगी से बड़े उनकी तीन बहने एक बड़ा भाई और तो छोटे भाई हैं अजय सिंह बचपन से ही पढ़ने में बहुत तेज थी उनकी पढ़ाई की शुरुआत 19 से77 में रजाक एक प्राइमरी स्कूल में हुआ।

जहां पर उन्होंने 1987 में हाईस्कूल की परीक्षा पास की और फिर 2 साल बाद 1989 में ऋषिकेश में श्री भारत मंदिर इंटर कॉलेज में इंटरमीडिएट की परीक्षा पास की इसके बाद 1990 में ग्रेजुएशन की पढ़ाई युवती नंदन बहुगुणा यूनिवर्सिटी किया और बीएससी की परीक्षा पास पढ़ाई के दौरान अजीत सिंह गुरु गोरखनाथ पर शोध करना का अवसर प्राप्त हुआ।

जिसके चलते अजीत सिंह कोसूत के लिए गोरखपुर आना पड़ा शुद्ध करने के दौरान उनकी मुलाकात गोरखनाथ मंदिर के महत्व वेदनाथ से हुई महेंद्र अवेद्यनाथ के संपर्क में आने से अजय सिंह का पूरा जीवन ही बदल गया इस मुलाकात से अजीत सिंह के विचारों मैं बहुत परिवर्तन हूं और फिर भी महज 21 की उम्र में घर समाज को छोड़ एक शिष्य के रूप में गोरखनाथ मंदिर के विशिष्ट की शरण में आ गए अजय सिंह ने अवेधनाथ से सी शिक्षा ली और सन 1994 सन्यासी बन गए।

जिसके चलते उनका नाम अजय सिंह बिष्ट से बदलकर योगी आदित्यनाथ हो गया सन्यासी बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने कई सामाजिक धार्मिक कार्य किए जिसके चलते हो गोरखधाम में सन्यासियों में लोकप्रिय बन गए बीते कई सालों से आदित्यनाथ के भगवान दमन पर कोई दाग लगे हैं बावजूद इसके योगी कब भगवानदास हिंदूवादी सोच कर आक्रामक बोल में कई कोई कमी नहीं आई।

 

Learn More –

 

Political Life____

Yogi Adityanath Biography in Hindi – साल 2009 में योगी आदिनाथ गोरखपुर से फिर एक बार सांसद चुने गए इस दौर में योगी की लोकप्रियता का दरिया पूरे उफान से भरा था लेकिन उनकी किस्मत को कुछ और ही मंजूर था 12 सितंबर 2014 में योगी के गुरु महेंद्र वैद्यनाथ का निधन हो गया निधन के बाद योगी कौन का उत्तराधिकारी बना गया और गोरखपुर में गुरु गुरु गोरखनाथ मंदिर मैं मंदिर कि कि उन्हें महेंद्र की उपाधि से नवाजा गया।

2 दिन बाद उन्हें नाथ संप्रदाय के प्रारंभिक अनुष्ठान के मुताबिक मंदिर का विधायक बनाया जाए महेंद्र बनते ही आदित्यनाथ का कद और बड़ा हो गया उत्तर प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों में भी आदित्यनाथ के चर्चे होने लगे साल 2014 में भी योगी ने गोरखपुर सीट पर कब्जा किया।

यह लो यह योगी की लोकप्रियता का नतीजा था जो साल 2014 में आम चुनाव में बीजेपी कमल खिला पाई 2017 के विधान सभा चुनाव में विरोधियों का सफाया कर दो 19 मार्च 2017 वक्त के तक आने पर यह तारीख थी महेंद्र के सुपर पर सबसे बड़े राजा का ताज सजाया महेंद्र से मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ ने शपथ ली और 22 करोड लोगों की उम्मीदों पर काम करना शुरू किया।

आज योगी दावों और वादों के सहारे सूबे की सत्ता पर काबिज होकर विकास की ओर नए मुकाम हासिल कर रहे हैं जिससे चारों ओर सरकार की खूब वाहवाही हो रही योगी की राजयोग लीला और कहां तक पहुंचेगी यह तो भविष्य के गर्भ में छिपा है मगर उनके समर्थक योगी को आने वाले सालों में सियासत के शिखर यानी प्रधानमंत्री के रूप में भी देखना चाहते हैं योगी आदित्यनाथ को एस लंबे सफर के लिए बहुत बहुत-बहुत शुभकामनाए।

 

Yogi Adityanath Biography in Hindi (Chief Minister of UP)

 

दोस्तों आशा करता हूँ कि आप को योगी आदित्यनाथ की जीवनी इस पोस्ट से अवश्य लाभ हुआ होगा। अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी है तो इसे आप अपने सभी Friends के साथ शेयर जरूर करें। हमें Comment करके ज़रूर बताये। इस पोस्ट को लास्ट तक पड़ने के लिए दिल से आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद।

Leave a Comment